शनिवार, 1 जुलाई 2017

मृत्यु .......

मृत्यु जीवन का सबसे बड़ा सच है पर इसके जिक्र भर से ही सब परेशान हो जाते हैं और ऐसे देखते हैं जैसे कितनी गलत बात कर दी गयी हो | जबकि देखा जाये तो जन्म की तरह ही मृत्यु एकदम सहज और अवश्यम्भावी घटना है | जिस भी चीज ,जीवित अथवा निर्जीव ,का सृजन हुआ है उसका संहार तो होना ही है | 

अक्सर ये प्रश्न मन को मथता है मृत्यु जन्म है या जन्म ही मृत्यु  | इस सोच के पीछे मूलतः ये सोच रहती है कि जब जन्म लिया तभी तो मृत्यु आ सकती है और जब मृत्यु आएगी तभी तो जन्म ले पाएंगे | तुलसीदास जी ने भी कहा है  .... 
"तुलसी या धरा को प्रमाण यही है 
जो जरा सो फरा  
जो फरा सो ज़रा 
जो बरा सो बुताना "
पहले ही माफ़ी तुलसीदास जी के शब्द एकदम शब्दशः नहीं लिख पायी ,पर काफी हद तक पहुँच गयीं हूँ | 

एक प्रश्न और सोच को थामता है कि मृत्यु शरीर का अंत है या शरीर के पूर्ण होने का पल | इस सोच के पीछे भी एक ही दर्शन है कोई भी चीज जब अपना सम्पूर्ण विस्तार पा जाती है तो उसका क्षरण प्रारम्भ हो जाता है इस लिहाज से मृत्यु जन्म ही है  ..... 

ये भी लगता है मृत्यु है क्या  ..... क्या सिर्फ सतत आने जाने वाली साँसों का थमना ही मृत्यु है या फिर याद किये जाने लायक व्यवहार या कर्मों का न होना मृत्यु है ! मृत्यु से सिर्फ शरीर ही नहीं समाप्त होता है अपितु किसी के जीवन का एक महत्वपूर्ण अंश भी समाप्त हो जाता है | पर हाँ अगर हमारे कर्म और व्यवहार अच्छे होते हैं तो लोग अपनी  यादों में ही हमें जिन्दा रखते हैं | 

मृत्यु के विषय में जितना भी और जिस भी मनःस्थिति में सोचा है ,सबके मूल में सिर्फ एक ही तत्व पाया है और वो है जुड़ाव के भय का | हम जिनसे भी मन या समाज के स्तर पर कहीं न कहीं जुड़े होते हैं ,उनके बारे में कमियाँ पता होने के बाद भी हम उनके गलत कार्यों की भर्त्सना करते हुए भी उनकी सलामती की कामना करते हैं | इस मनःस्थिति का सबसे ज्वलंत उदाहरण मंदोदरी है | रावण जब जब बलात किसी स्त्री का अपहरण करता मंदोदरी उसके विरोध में ही खड़ी रहती पर उसी रावण के अमरत्व के लिये उसने तप भी किया | शायद ये मन का जुड़ाव और बुद्धि से मृत्यु की कामना की उलझन ही थी | इस तरह मृत्यु जुड़ाव का दूसरा नाम भी लगता है मुझको तो !

ये भी लगता है कि मृत्यु एक सतत चलनेवाली प्रक्रिया ही है ,किसी भी संशय अथवा उस संशय के परिणाम से भी परे | मृत्यु सिर्फ मृत्यु है जो किसी अपने की हो तो अपने ही शरीरांश के कटे हुए होने जैसी बहुत पीड़ा दे जाती है ,किसी परिचित की हो तो श्मशान वैराग्य हो जाता है और जब वो सिर्फ एक खबर हो तो एक जिज्ञासा और मृतक के कर्मफल का विवेचन ही होती है  ............ निवेदिता
#हिंदी-ब्लॉगिंग  

32 टिप्‍पणियां:

  1. मृत्यु तो जन्म से भी बड़ा सच है...। जन्म को तो रोका भी जा सकता है, पर मौत नहीं...। पर इस सच से हर कोई भागना इस लिए चाहता है क्योंकि इसके साथ बहुत गहरी पीड़ा जुड़ी होती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मौत सच तो है ही ... पर कुछ सच भी पीड़ा देते हैं न ... इसका कारण इंसानी मोह होता है ... हम शायद अपनी मौत से नहीं बल्कि अपनों से बिछड़ने से डरते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो निश्चित है उसका भय नहीं होना चाहिए ,जुड़ाव जिससे हो उसकी हिफाजत करने को मन तत्पर होता है वह चाहे जीवित हो या निर्जीव , जब अपना एक कार्य पूरा हो जाता है हम दूसरा कार्य चुनते हैं, मृत्यु शरीर के उस रूप में हमारा कार्य पूर्ण हुआ समझना चाहिए नए जन्म के साथ नई जगह, नए लोगों के साथ नया कार्य का आरंभ ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाकई जीवन का बड़ा सच है .... पर जाने क्यों इसके भय निकलना मुश्किल है |

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीया

    बहुत गंभीर विषय उठाया है आपने
    मृत्यु कटु एवं अकाट्य सत्य है

    स्वजन की मृत्यु को कभी भी सहजता से नहीं स्वीकारा जा सकता


    26 वर्ष पहले पिताजी के स्वर्गवास के बाद
    लगभग दो वर्ष पहले मेरी माताजी का भी स्वर्गवास होने के बाद
    मेरा सारा ज्ञान मेरा बौद्धिकपना चुक गया - सा लगता है

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरसे बाद ब्लॉग पर आना अच्छा लगा
    साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. जन्म लेने वाले का और कुछ निश्चित हो ना हो पर उसकी मृत्यु होगी यह निश्चित होता है

    उत्तर देंहटाएं
  9. मृत्यु कितना ही बड़ा सच हो..इससे भय लगता ही है|
    अपने अपनों की मौत का भय और उनके चले जाने पर दुःख,पीड़ा तो स्वाभाविक है...मुझे तो अपनी मौत से भी भय लगता है....कि मेरे बाद जो दुखी होंगे उनका दुःख मैं जीते जी महसूस करने लगती हूँ...
    अजीब सी बात है पर सच है :(

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनु ,मैं भी कभी कभी कुछ उलझी मनःस्थिति में यही सोचती हूँ कि मैं निःश्वांस पड़ी हूँ और अपने और सपने दोनों की प्रतिक्रिया देखती हूँ और उस पर क्या कहूँ ........

      हटाएं
  10. मृत्यु से भय इस बात पर भी निर्भर है कि व्यक्ति जीवन के किस पड़ाव पर है | सभी को पता है मृत्यु एक सत्य है पर उसे स्वीकारना आसान नहीं |

    उत्तर देंहटाएं
  11. गंभीर विषय ....मृत्यु शाश्वत सत्य है ...इससे डरना नहीं प्रेम करना चाहिए ...जब तक हम हैं तब तक हैं मर गए तो क्या गम है :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. अन्तर्राष्ट्रीय ब्लोगर्स डे की शुभकामनायें ..... हिन्दी ब्लॉग दिवस का हैशटैग है #हिन्दी_ब्लॉगिंग .... पोस्ट लिखें या टिपण्णी , टैग अवश्य करें ......

    उत्तर देंहटाएं
  13. मौत ही जिंदगी की आखिरी मंजिल है
    हम दुनिया में आते हैं तो हम रोते हैं, बाकी सब हंसते हैं, जिंदगी पूरे अवसर देती है कि हम ऐसा करें कि जब मौत आए तो हम हंसे और बाकी सब रोएं
    जय हो #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही गहरी बात | इत्तेफाकन आजकल यही विषय मुझे भी उद्वेलित किये हुए है , और कुछ कुछ मैं भी सत्य को समझने का प्रयास कर रहा हूँ | सार्थक विमर्श

    उत्तर देंहटाएं
  15. मृत्यु तो अटल है जो पैदा हुआ उसकी यही नियति है पर अपनी मर्जी से आनंद पूर्वक इस नियति को स्वीकारने के लिये कोई तैयार नही है. जो इसे आनंद पूर्वक स्वीकार ले फ़िर उसकी क्या मृत्यु होगी? यही जीते जी मर जाने का सच है.
    #हिंदी_ब्लागिँग में नया जोश भरने के लिये आपका सादर आभार
    रामराम
    ०९०

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (02-07-2016) को "ब्लॉगिंग से नाता जोड़ो" (चर्चा अंक-2653) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  17. सही कहा मृत्यु और जीवन एक ही सिक्के के दो पहलू हैं

    लेकिन हम तो कहेंगे
    ताऊ के डंडे ने कमाल कर दिया
    ब्लोगर्स को बुला कमाल कर दिया

    #हिंदी_ब्लोगिंग जिंदाबाद
    यात्रा कहीं से शुरू हो वापसी घर पर ही होती है :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. जिसका जन्म हुआ उसे एक दिन मरना ही है, फिर भी हम इंसान सरलता से यह बात कहाँ समझ पाते हैं।
    बहुत अच्छी विचारशील प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत दिनों बाद ब्लॉग में आना हुआ

    उत्तर देंहटाएं
  20. सार्थक लेखन.....अंतरराष्ट्रीय हिन्दी ब्लॉग दिवस पर आपका योगदान सराहनीय है. हम आपका अभिनन्दन करते हैं. हिन्दी ब्लॉग जगत आबाद रहे. अनंत शुभकामनायें. नियमित लिखें. साधुवाद.. आज पोस्ट लिख टैग करे ब्लॉग को आबाद करने के लिए
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  21. जो आया है वह तो जाएगा, संसार इसी को कहते हैं --
    सार्थक और मन को छूती बात कही है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  22. मृत्यु शाश्वत सत्य है,पर जीवन है तभी तक मोह माया और बंधन है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. विचारणीय पोस्ट !
    हिन्दी ब्लॉगिंग में आपका योगदान सराहनीय है , आप लिख रही हैं क्योंकि आपके पास भावनाएं और मजबूत अभिव्यक्ति है , इस आत्म अभिव्यक्ति से जो संतुष्टि मिलेगी वह सैकड़ों तालियों से अधिक होगी !
    मानती हैं न ?
    मंगलकामनाएं आपको !
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  24. जन्म और मृत्यु तो बस दो छोर हैं, इनके बीच बहता जीवन है... दार्शनिक रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  25. कुछ भी कह पाने में असमर्थ हूँ :(
    बड़ी मुश्किल से पूरी पोस्ट पढ़ी :(

    उत्तर देंहटाएं
  26. कहना आसान नहीं है मृत्यु के बारे में ... गहरा रहस्य है ये जो शायद समझ से परे है ... हाँ ये एक अंत जरूरी है जीवन का ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. मृत्यु निश्चित है कुछ भी कह लो कुछ भी कर लो टलना असंभव है

    उत्तर देंहटाएं